अनुसंधान एवं विकास (आर एण्ड डी)

गुणवत्ता नियंत्रण प्रयोगशाला

एमआरपीएल गुणवत्ता नियंत्रण प्रयोगशाला, तकनीकी सेवा विभाग के अधीन स्थापित की गई है. इस प्रयोगशाला का प्रमुख उद्देश्य है, उत्पाद का प्रमाणीकरण करने के अलावा तमाम यूनिटों को दिन-रात विश्लेषणात्मक सहायता प्रदान करना. यह प्रयोगशाला, तैयार उत्पादों की गुणवत्ता और उपचारित बहिस्राव पर सख़्त नियंत्रण रखने के लिए जिम्मेदार है.

इस प्रयोगशाला की गतिविधियों का वर्गीकरण इस तरह किया गया है:

  1. कच्चा माल का विश्लेषण.
  2. सभी प्रोसेसिंग यूनिटों से मध्यवर्ती नमूना विश्लेषण.
  3. विनिर्दिष्ट मानकों अथवा ग्राहक विनिर्दिष्ट मानक के अनुसार तैयार उत्पााद का विश्लेषण और प्रमाणीकरण करना.
  4. उपयोगिता यूनिटों के नमूने (कच्चा जल और विखनिजित जल उपचार संयंत्र के नमूने, बॉइलर जल, शीतलन जल के नमूने, संयंत्र और यंत्र वायु के नमूने तथा नाइट्रोजन के नमूने)का विश्लेषण.
  5. व्यर्थ जल उपचार संयंत्र और उपचारित बहिस्राव के नमूनों का विश्लेषण.
  6. संयंत्र के थोक रासायनिक पदार्थों का विश्लेषण.
  7. वातावरण पर निगरानी रखना.
  8. स्केल और डिपॉसिट के नमूनों का विश्लेषण.
  9. जांच और विफलता का विश्लेषण.
  10. अनुसंधान और विकास

प्रयोगशाला के लिए, राष्ट्रीय परीक्षण और अंशशोधन प्रयोगशाला मान्यता बोर्ड (एनएबीएल) ने ISO/IEC 17025-2005 (परीक्षण और अंशशोधन प्रयोगशालाओं की दक्षता के लिए सामान्य अपेक्षाएं) के लिए मान्यता प्रदान की है.
प्रयोगशाला, अंतर-प्रयोगशाला सह संबंध कार्यक्रम और दक्षता परीक्षण में भाग लेती है.

इस प्रयोगशाला के लिए, सिविल विमानन महा निदेशालय (DGCA), विमानन मंत्रालय, सैनिक उडान योग्यता और प्रमाणीकरण केंद्र (CEMILAC) तथा वैमानिक गुणवत्ता आश्वासन महा निदेशालय (DGAQA), विमानन टर्बाईन ईंधन परीक्षण और प्रमाणीकरण संबंधी रक्षा मंत्रालय ने अनुमोदन दिया है. कर्नाटक राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (केएसपीसीबी) ने, प्रतिचयन (सैंपलिंग) और जल/ व्यर्थ जल और वायु/उत्सर्जन का विश्लेषण करने के लिए प्रयोगशाला को भी अपनी सूची में रखा है.

इस प्रयोगशाला की बागडोर महा प्रबंधक (गुणवत्ता नियंत्रण और आर एण्ड डी) संभाल रहे हैं जिनकी सहायता करते हैं, वरिष्ठ प्रबंधक (गुणवत्ता नियंत्रण), प्रबंधक (गुणवत्ता नियंत्रण), वरिष्ठ प्रयोगशाला सर्वेक्षक, प्रयोगशाला पर्यवेक्षक, केमिस्ट और सामान्य कामगार.

इस प्रयोगशाला में, अति आधुनिक स्वचालित और आधुनिकतम यंत्र हैं. परीक्षण उपकरणों का अंशशोधन, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुसार प्रमाणित संदर्भ सामग्री का उपयोग करते हुए किया जाता है.

नमूनों का परीक्षण करते समय मानक परीक्षण पद्धतियां अपनाई जाती हैं जैसे अमेरिकन सोसाइटी फॉर टेस्टिंग एण्ड मटीरियल्सर(ASTM), इंस्टीटयूट ऑफ पेट्रोलियम (IP), अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन (ISO), भारतीय मानक ब्यूरो (BIS), सर्वव्याटपी तेल उत्पाेद (UOP)-अमेरिका, शेल्ला मेथड सीरिस (SMS), अमेरिकन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन (APHA)आदि.

तैयार उत्पादों का प्रमाणीकरण करने के लिए माइक्रोप्रोसेसर आधारित कुछ पूर्णत: स्वरचालित महत्वपूर्ण उपकरण हैं:

  • मोटर गैसोलीन (पेट्रोल) की ऑक्टेेन रेटिंग करने के लिए RON और MON इंजन.
  • हाई स्पीलड डीज़ल (HSD) की CETANE रेटिंग करने के लिए Cetane इंजन.
  • मोटर गैसोलीन में बेंज़ीन अंश का निर्धारण करने, एलपीजी, नैफ़्ता और मिश्रित ज़ाइलीन का घटक विश्लेषण करने के लिए GC (गैस क्रोमैटोग्रॉफी).
  • HSD में सुगंधित द्रव्य का पता लगाने के लिए (उच्च निष्पादन द्रव क्रोमैटोग्रॉफी.
  • वायुमंडलीय स्थिति पर और निर्वात स्थितियों के अंतर्गत पेट्रोलियम उत्पादों के आसवन लक्षणों का पता लगाने के लिए ऑटोमैटिक आसवन यूनिट.
  • फ्लैश पाइंटों का निर्धारण करने के लिए फ्लैश पाइंट उपकरण
  • प्रति दश लक्ष भाग परिसर से प्रतिशत परिसर तक गंधक अंश का पता लगाने के लिए XRF (X-रे प्रतिदीप्ती (फ्लोरेसेंस स्पेट्रोस्कोपी).
  • मोटर गैसोलीन की संग्रहण स्थिरता जानने के लिए इंडक्शन पीरियड परीक्षण उपकरण.
  • HSD और ईंधन तेल (FO) की संग्रहण स्थिरता का पता लगाने के लिए उपकरण.
  • HFRR (उच्च फ्रीक्वेंटसी प्रत्यािगमनी (रेसिप्रोकेटिंग) रिग्गा) स्नेहकता मूल्यांकनकर्ता, HSD और BOCLE के लिए (बॉल ऑन सिलिंडर स्नेहकता मूल्यांकनकर्ता) ATF.
  • ATF (एविएशन टर्बाइन ईंधन) JFTOT (जेट ईंधन तापीय ऑक्सीकारक टेस्टर) तापीय स्थिरता.
  • ATF के लिए क्युम्युलेटीव चैनल पर्टिक्यूलेट काउंटर
  • ATF के माइक्रो विभाजक सूचक के लिए EMCEE इलेक्ट्रॉनिक्स -1140
  • ATF के काइनैमैटिक विस्कॉमसिटी के लिए - 20°C पर निम्न तापमान स्नान.
  • ATF के हिमांक, HSD और FO के बहाव बिंदु के लिए स्वचालित यंत्र.
  • ऑटोमैटिक घनत्व मीटर.
  • प्रोग्राम करने लायक ऑटोमैटिक टाइट्रेटर्स.

अच्छी तरह से स्थापित प्रयोगशाला में जल का विश्लेषण, व्यर्थ जल और ठोस अपशिष्ट सामग्री का विश्लेषण, ASTM, BIS, APHA और KSPCB द्वारा निर्दिष्ट परीक्षण पद्धतियों अर्थात् मानक परीक्षण पद्धतियों के अनुसार किया जाता है.

प्रयोग में लाए जाते रहे कुछ परिष्कृत यंत्र इस प्रकार हैं:-

  • जल, अपशिष्ट जल अथवा ठोस अपशिष्ट (जैसे तेल युक्त कीचड, बायो-रेमेडिएशन नमूने, भुक्तशेष उत्प्रेरक, भुक्तशेष कार्बन और भुक्त्शेष क्ले नमूने) में प्रति दस खरब (10-12) स्तर के भागों में भारी धातुओं का पता लगाने के लिए ICP-MS.
  • प्रति अरब (10 9) भागों में तत्वों का पता लगाने की दृष्टि से ग्रेफ़ाइट फर्नेस के लिए AAS (परमाणविक अवशोषण स्प्रेक्ट्रोफोटोमीटर).
  • Mg/L के परिसर में फीनॉल, सल्फाइड, लोहा, हेक्सावेलेंट क्रो‍मियम और फॉस्फो्रस जैसी अशुद्धताओं का वर्णमितीय (कलरिमेट्रिक) आकलन करने के लिए UV-VIS स्प्रेक्ट्रोफोटोमीटर.
  • जल और अपशिष्ट जल के नमूनों में कार्बनिक और अकार्बनिक अंश का पता लगाने के लिए कुल कार्बनिक कार्बन (TOC).
  • जल के नमूनों में ऋणयन (ऐनाइन्स) और धनायन (केटाइन्स्) का पता लगाने के लिए आयन क्रोमेटोग्राफी.
  • अमोनिकल नाइट्रोजन और कुल केजलधल नाइट्रोजन का पता लगाने के लिए माइक्रो केजलधल आसवन ढांचा.
  • प्रति दश लक्ष भागों (ppm)में तेल अंश का पता लगाने के लिए तेल अंश विश्लेषक.
  • जैविक आक्सीजन मांग का पता लगाने के लिए BOD इंक्यूपबेटर.
  • रासायनिक ऑक्सीजन मांग का पता लगाने के लिए HACH स्पे‍क्ट्रो फोटोमीटर के साथ COD डाइजेस्टर
  • जल के नमूनों के pH का पता लगाने के लिए यथार्थ मापी (प्रिसीशन) pH मीटर.
  • जल के नमूनों की अविलता (टर्बिडिटी) का निर्धारण करने के लिए के अविलता (टर्बिडिटी) मीटर.
  • 0.00001 g के निकटतम तोलने के लिए यथार्थ मापी (प्रिसीशन) सर्टोरियस शेष.
  • कांच के साधनों में रोगाणुनाशन करने और लैमिनार वायु प्रवाह के साथ माइक्रो जैविक विश्लेषण करने के लिए ऑटोक्लेव.
  • सोडियम और पोटाशियम का पता लगाने के लिए फ्लेम फोटोमीटर.
  • शुष्कन और राख बनाने के लिए तापमान नियंत्रित मफल फर्नेस और हॉट एअर ओवन.
  • नमूनों को नियंत्रित तापमान पर रखने के लिए डीप फ्रीज़र.

ठीक तरह से प्रशिक्षण प्राप्त केमिस्टों/अधिकारियों द्वारा विश्लेषण किया जाता है.

अनुसंधान और विकास (आर एण्डत डी) अनुभाग

एमआरपीएल आर एण्ड डी खंड का उद्देश्य और ध्यान केंद्र है, पेट्रोलियम परिष्करण और पेट्रोकेमिकल्स के प्रौद्योगिकीय क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास की सतत प्रक्रिया के जरिए नई-नई खोज करना.

एमआरपीएल का आर एण्ड डी खंड, इनके प्रति प्रतिबद्ध है:

  • उत्प्रेरण और संक्षारण जैसे क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास संबंधी गतिविधियां चलाने के लिए विश्व दर्जे की सुविधाएं स्थापित करना.
  • एमआरपीएल के आर एण्ड डी खंड में जोशपूर्ण और चुनौतीपूर्ण आर एण्ड डी वातावरण निर्मित करना जिससे कि बेहतरीन ज्ञान आधार आकर्षित किया जा सके और नई-नई खोज करने, आविष्कार करने और नए-नए उत्पाद ढूंढ निकालने तथा संगठन एवं राष्ट्र को तकनीकी-प्रौद्योगिकीय फायदा पहुंचाने के लिए प्रौद्योगिकीय खोज का प्रभावशाली कार्यान्वयन करने की खातिर बुनियादी और व्यावहारिक अनुसंधान के लिए सक्षमता विकसित करना.
  • ऊर्जा के क्षेत्र में अनुसंधान के छोर पर सहयोग पूर्ण अनुसंधान करने के लिए राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों के साथ और उत्कृष्ट प्रौद्योगिकीय केंद्रों के साथ सहयोग करना.

एमआरपीएल के आर एण्ड डी केंद्र में इन बातों पर ख़ासा ध्यान दिया जाता है:

  • बिटूमेन से मूल्यवर्धित उत्पाादों का विकास करना. .
  • उत्प्रेरक का चयन और अन्य योजकों का चयन करने के लिए तकनीकी सेवा को प्रौद्योगिकीय और विश्लेषणात्मक समर्थन देना.
  • ग्राहकों की शिकायतों का निवारण करने की दिशा में विश्लेषणात्मक और तकनीकी समर्थन देने के लिए ग्राहक की संतुष्टि का स्तर बढ़ाना.

 

एमआरपीएल की आर एण्डक डी गतिविधियां:

  • उत्पाद का विकास:
    • बिटूमेन पायस (इमल्शन) - अधिक दृढ और उच्च कोटि के बिटूमेन पायस का विकास.
  • क्रूड का मूल्यांकन:
    • विस्तृत ढंग से भौतिक और रासायनिक लक्षणों का पता लगाने के लिए क्रूड और क्रूड ब्लेंड्स का मूल्यांकन.
  • उत्प्रेरक का मूल्यांकन:
    • उत्प्रेरक का चयन करते समय FCC उत्प्रेरक का भौतिक एवं रासायनिक लक्षणों का पता लगाना और उत्प्रेरक खरीदने के बारे में निर्णय लेना.
    • भौतिक-रासायनिक लक्षणों और उत्प्रेरक की गतिविधि का चयन करने की खातिर ई-कैट का निर्धारण करना जिससे कि नए उत्प्रेरक और योजक (एडिटिव) का इष्टतमीकरण किया जा सके.
  • बाजार में मांग और ग्राहक की अपेक्षाओं के आधार पर पॉलीप्रॉपीलीन का आमिश्रण (कंपाउंडिंग) करना और उसके गुणधर्म का मूल्यांकन करना.

 

आर एण्ड डी प्रयोगशाला में परिष्कृत परीक्षण उपकरण हैं जैसे:

  • प्रयोगशाला मॉडेल बिटूमेन पायस (इमल्शन) यूनिट - बिटूमेन पायस (इमल्शन)के विभिन्न सूत्रीकरण और उनकी स्थिरता का अध्ययन करना.
  • सही क्वाथनांक उपकरण - उत्पारदन स्वरूप के प्रभाज के गुणधर्म का मूल्यांकन करने की खातिर क्रूड तेल का प्रभाजित आसवन करने के लिए.
  • उन्नत FCC उत्प्रेरक की माइक्रो गतिविधि का मूल्यांकन यूनिट – FCC उत्प्रेरक का परिवर्तन, चयनात्मनक मूल्यांकन करने के लिए.
  • FCC उत्प्रेरक का निष्क्रियण यूनिट – FCC उत्प्रेरक भाप और धातुवेशन (मेटलेशन) निष्क्रियण का अध्ययन करने के लिए.
  • PIONA पूर्व प्रभाजक गैस क्रोमैटोग्राफ - MAT उत्पारदों का विस्तृत विश्लेषण करने के लिए.
  • ऑटोमेटेड सॉर्पटोमीटर - पृष्ठीाय क्षेत्रफल (सर्फेस एरिया), छिद्र का आकार, छिद्र की मात्रा जानने और सक्रिय साइट का पता लगाने की दृष्टि से उत्प्रेरकों का लक्षण वर्णन करने के लिए.
  • एक्स - रे डीफ्रैक्टोसमीटर – क्रिस्टल की संरचना का पता लगाने और उत्प्रेरक तथा अवशोषक सामग्री को पहचानने के लिए.