स्वास्थ्य और सुरक्षा

सुरक्षा प्रबंधन प्रणाली

  1. मंगलूर में एमआरपीएल की 15 एमएमटीपीए की रिफाइनरी को पहले से ही ISO 9001: 2000 और ISO 14001 कंपनी की तरह मान्यता प्राप्त है, जिसे अब एक प्रतिष्ठित ब्रिटिस सेफ्टी काउंसिल, यू.के. ने स्वास्य्नत एवं सुरक्षा प्रबंधन तंत्र के लिए पंच तारा दर्जा दिया है. एमआरपीएल में आग रोकने और सुरक्षा प्रदान करने के तंत्र, परिष्करण उद्योग के खतरनाक स्वरूप को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं जो OISD और TAC के दिशा निर्देशों के अनुरूप हैं.
  2. सुरक्षा संबंधी आंकड़ें: एमआरपीएल ने 20 जनवरी, 2012 को घायल होने पर समय नष्ट हुए बगैर (RLTI)दुर्घटना मुक्त 1415 दिन (12.10 MMHrs.)हासिल किए और पिछली बार दुर्घटना मुक्त सर्वाधिक दिन रहे 1088 (7.76 MMHrs.).
  3. सुरक्षा संबंधी पुरस्कार: दुर्घटना मुक्त दिनों के लिए सुरक्षा पुरस्कार देने की नीति बनाने की वजह है कर्मचारियों और ठेकेदारों को सुरक्षित कार्य वातावरण बनाए रखने और उसे सुनिश्चित करने के लिए प्रोत्साहन देना.
  4. नीचे उल्लिखित तंत्र और क्रियाविधियां लागू की गई हैं:
    • अग्नि संबंधी आदेश: विभिन्न विभागों / अनुभागों में आपात कालीन स्थितियों के दौरान कर्तव्य एवं ज़िम्मेदारियाँ विस्तृत रूप से तय की गई हैं और अग्नि संबंधी आदेश में प्रकाशित की गई हैं.
    • अग्नि कॉल आवर्तन: विभिन्न विभागों के सदस्यों समेत गठित नामोद्दिष्टी दलों का आवर्तन किया जाता है जिससे कि आपात कालीन परिस्थितियों में अतिरिक्त श्रम शक्ति का उपयोग किया जा सके.
    • क्षेत्र की सुरक्षा की देखरेख करने के लिए समिति: विभागीय स्तंर पर संबंधित महा प्रबंधक / उप महा प्रबंधक और गैर पर्यवेक्षक कर्मचारियों की छत्रछाया में क्षेत्र सुरक्षा समितियों का गठन किया गया है जो महीने में एक बैठक बुलाकर उन कारकों का मूल्यांकन, नियंत्रण एवं तहक़ीक़ात करेंगी जिससे दुर्घटना होने की संभावना हो और समाधान पेश करेंगी.
    • केंद्रीय सुरक्षा समिति: केंद्रीय सुरक्षा समिति नामक एक शीर्ष निकाय की स्थापना की गई है जो क्षेत्र सुरक्षा समितियों के कामकाज की समीक्षा करेगी और उन पर निगरानी रखेगी. सीएससी की महीने में एक बैठक होती है जिसके अध्यक्ष, उपाध्यक्ष (तकनीकी सेवाएं) और सचिव, उप महा प्रबंधक (एफ एण्ड एस) होते हैं. इस समिति में सभी एएससी अध्यक्ष, विभागाध्यक्ष, मुख चिकित्सा अधिकारी, कल्याण अधिकारी और क्रय विभाग के प्रतिनिधि होते हैं.
    • कार्य परमिट तंत्र: एमआरपीएल ने OISD के दिशा निर्देशों के आधार पर कार्य परमिट तंत्र बनाया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सारे कार्य, प्रचालन और रख-रखाव दलों के सक्रिय सहयोग सुरक्षित तरीके से किए जाते हैं. अग्नि और सुरक्षा तंत्र में, लिखित सूचना के अनुपालन का सत्यापन किया जाता है और चूक करने वाले पक्षकारों को निवारक कार्रवाई के बारे में उपयुक्त सलाह दी जाती है. एमआरपीएल में प्रवृत्त विभिन्न कार्य परमिट इस प्रकार हैं:
      • कोल्ड वर्क परमिट
      • हॉट वर्क / वेहिकल एंट्री परमिट
      • सीमित स्थान में प्रवेश / जहाज प्रवेश / बॉक्स अप परमिट
      • खुदाई परमिट
      • इलेक्ट्रिकल कार्य परमिट
      • विकीरण सुरक्षा परमिट
      • दुर्बल छत/ऊंचाई पर काम करना

लेखा परीक्षा: ब्रिटिश सेफ्टी काउंसिल, KLG-TNO, LPA, प्यूनीश रे, HPCL और OISD जैसी जानी मानी बाह्य एजेंसियों ने विभिन्न लेखा परीक्षाएं की हैं. एमआरपीएल में सुरक्षा को लेकर हासिल की गई उच्च स्तर की जागरूकता, अंतर्राष्ट्रीय स्तर की इन लेखा परीक्षा एजेसियों की तारीफ के काबिल बनी है.

आपसी सहायता योजना :आपसी सहायता योजना, आस-पास के बड़े उद्योगों के साथ बनाई गई है जिसका ख़ास उद्देश्य है, बड़े पैमाने पर आपात कालीन स्थितियां उत्पन्न होने पर संसाधनों और श्रम शक्ति का बंटवारा करना. आपसी सहायता पाने वाले सदस्यों के बीच कार्य स्थान पर / कार्य स्थान से बाहर नकली प्रदर्शन के जरिए आवधिक रूप से पारस्परिक क्रिया के जरिए दोनों उद्योगों में संभावित ख़तरों और अपनाए गए विभिन्न अग्नि सुरक्षा उपायों के बारे में जानकारी हासिल करना संभव होगा.

आपदा प्रबंधन योजना : एमआरपीएल ने सुव्य स्थित ऑनसाइट आपदा प्रबंधन योजना बनाई है जिसके लिए कारखाना निदेशक ने अनुमोदन दिया है. आपसी सहायता पाने वाले सदस्यों सहित सब की प्रतिक्रिया का परीक्षण करने और आपात कालीन एवं संबद्ध सेवाओं की प्रभावोत्पादकता जानने की खातिर नकली कवायद की जाती है. प्रेक्षकों को नियुक्त किया जाता है तथा तंत्र में और सुधार करने की खातिर उनके प्रेक्षणों एवं सुझावों को अमल में लाया जाता है. इसके अलावा, एमआरपीएल के साथ मिलकर जिला प्राधिकारियों ने कार्य स्थान से बाहर आपदा प्रबंधन योजनाएं बनाईं. कार्य स्थान के बाहर भी आपातकाल संबंधी नकली कवायद की जाती हैं.

प्रकाशन: हर वर्ष 4 मार्च को सुरक्षा दिवस के उपलक्ष्य में वार्षिक सुरक्षा रिपोर्ट प्रकाशित की जाती है. सुरक्षा न्यूजलेटर , हर महीने प्रकाशित होता है जिसमें निवारक कार्रवाई के साथ केस अध्ययन के बारे में चर्चा प्रकट की जाती है. इस न्यूजलेटर में खुदाई की क्रियाविधियों सहित हमारी हाउसिंग कॉलोनी की खबरें भी प्रकाशित कर परिचालित की जाती हैं. अग्नि और सुरक्षा संबंधी पुस्तिका, ऑनसाइट आपातकाल प्रतिक्रिया प्रबंधन योजना, कार्य सुरक्षा संबंधी क्रियाविधि, सामग्री संबंधी डेटा शीट (MSDS), खतरनाक वस्तुंओं को ले जाते समय सुरक्षा के बारे में जानकारी प्रकाशित की जाती है और इसे सभी कर्मचारियों की तरफ से एमआरपीएल के आंतरिक इंटरनेट पर प्रदर्शित किया जाता है.

स्टाफ और प्रशिक्षण : एमआरपीएल में एक समर्पित अग्नि एवं सुरक्षा अनुभाग है जिसके अधिकारियों को राष्ट्रीय अग्नि सेवा कॉलेज, नागपूर (गृह मंत्रालय, भारत सरकार) और केंद्रीय श्रम संस्थान में प्रशिक्षित किया गया है. उप महा प्रबंधक, इस विभाग की बागडोर संभालते हैं और कारखाना अधिनियम के अनुसार सीधे कंपनी के उपाध्यंक्ष, प्रचालन को रिपोर्ट किया करते हैं.

कर्मचारियों का प्रशिक्षण: अग्नि शमन में प्रशिक्षण एक अविरत पूरे दिन का कार्यक्रम है जिसे अग्नि प्रचालकों और संयंत्र के कर्मचारियों के लाभार्थ हर पखवाड़े में चलाया जाता है. प्रशिक्षण कार्यक्रम की पाठय चर्या में शामिल हैं, हमारे समर्पित प्रशिक्षण केंद्र में सैद्धांतिक विषय पर क्लास रूम में व्याख्यान के बाद OISD के अनुसार बनाए गए विभिन्न मॉडेलों की मदद से अग्नि प्रशिक्षण मैदान में अग्नि शमन प्रशिक्षण का सीधा नकली प्रदर्शन. हमारी कंपनी में कदम रखने वाले कर एक कर्मचारी के लिए यह अनिवार्य है कि वह अग्नि और सुरक्षा के बारे में एक दिवसीय प्रवेश प्रशिक्षण में भाग ले.

ठेका कर्मचारियों के लिए प्रशिक्षण : हर एक ठेका कामगार को आवधिक रूप से चलाए जाने वाले अर्ध दिवसीय कार्यकम में भाग लेना पड़ता है. ठेका कामगारों को रिफाइनरी गेट पास तभी दिया जाता है जब उन्होंपने एमआरपीएल के अग्नि और सुरक्षा विभाग से पृष्ठांकन प्राप्त किया हो.

विविध प्रशिक्षण : प्रशिक्षण कार्यक्रमों के लिए पूरक व्यवस्था के तौर पर और सुरक्षा के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए, कर्मचारियों और ठेका कामगारों की खातिर उनके कार्य स्थान पर जाकर प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है.

सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम :हमारी कॉलोनी के निवासियों सहित निकटतम समुदायों और स्कूलों की खातिर वक्त वक्त पर सार्वजनिक जागरूकता कार्यक्रम चलाए जाते हैं. वार्षिक सुरक्षा दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रम के दौरान कर्मचारियों, उनके परिजनों और निकटतम स्कूलों के लिए प्रतियोगिताएं चलाई जाती हैं और पुरस्कार दिए जाते हैं.

सुरक्षा

कंपनी का मक़सद है सुरक्षा पहले.

  • कर्मचारियों और ठेका मज़दूरों की खातिर संयंत्र की सुरक्षा के बारे में लगातार प्रशिक्षण.
  • आस-पास के उद्योगों की खातिर सुरक्षा के बारे में प्रशिक्षण.
  • एमआरपीएल, राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के मंगलूर चैप्टर का संयोजक है.
  • सभी कर्मचारियों को प्रशिक्षित करने के लिए बेहतरीन ढंग से सज्जित लाइव अग्नि शमन मैदान का इस्तेमाल किया जाता है.
  • पूर्ण रूप से कार्यात्मक सुरक्षा एवं रख-रखाव समितियां.
  • पड़ोस के उद्योगों के साथ आपसी सहायता योजना - ऑन साइट आपात कालीन योजना में नकली अग्नि प्रदर्शन प्रलेखित किया गया

 

एमआरपीएल के स्वास्थ्य और सुरक्षा नीति देखें

पंच तारा दर्जा दर्शानेवाला प्रमाणपत्र