पर्यावरण की देखभाल

मंगलूर रिफाइनरी एण्ड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड, (भारत सरकार का उपक्रम और ओएनजीसी लिमिटेड की सहयोगी कंपनी) डिज़ाइन चरण से लेकर रिफाइनरी प्रचालन के हर एक क्षेत्र में हमेशा पर्यावरण अनुकूल रहा है. पर्यावरण की देखभाल करने की दिशा में एमआरपीएल द्वारा किए गए विशेष उपाय:

वायु प्रदूषण रोकने और घटाने के उपाय

  • कम गंधक युक्त ईंधन तेल का उपयोग और प्रज्वदलित हीटरों के लिए ईंधन के रूप में रिफाइनरी के बहिर्गैस का अधिकतम उपयोग करना
  • नाइट्रोजन ऑक्सालइड का उत्सर्जन घटाने के लिए विभिन्न हीटरों में न्यूतनतमNOx उत्सएर्जित करने वाले बर्नर लगाए गए हैं
  • धूल के बारे में मानकों की पूर्ति करने की खातिर पीएफसीसीयू में अत्याधुनिक साइक्लोिन तंत्र संस्थापित किए गए हैं.
  • अस्थाूई उत्सर्जन घटाने के लिए हाइड्रोकार्बन टंकियों में वाष्प अवशोषण तंत्र और गौण सील प्रदान किए गए हैं.
  • विभिन्न प्रदूषकों का वास्तविक समय में हुए सकेंद्रण पर निगरानी रखने के लिए दो लगातार परिवेशी वायु गुणवत्तान(एएक्यू) निगरानी प्रणाली स्थादपित की गई हैं और रिफाइनरी कांप्लेाक्‍स के इर्द-गिर्द 09 एएक्यू निगरानी केंद्र खोले गए हैं.
  • SOx / NOx के उत्सर्जन संबंधी मापदंडों का पालन करने के लिहाज से आनलाइन स्टै‍क मॉनिटरिंग का कार्य किया जा रहा है जिसे प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के साथ बांटा जाता है.
  • वक्तर-वक्तन पर VOC उत्सर्जन और ध्वनिकेस्तरर की निगरानी रखी जा रही है
  • पर्यावरण मानक की पूर्ति करने की खातिर 99% से अधिक दक्ष गंधक रिकवरी यूनिटें(SRU) प्रदान की गई हैं.
  • ऐमीन उपचार यूनिट, खट्टा जल विपट्टन यूनिटें और संस्फुलरण तंत्र उपलब्ध कराए गए हैं – ये यूनिटें SO2 का उत्सर्जन काफ़ी हद तक घटाती हैं.
  • गंधक रिकवरी यूनिट में धुएँ का उत्सर्जन टालने के लिए गंधक पेलटाइज़ेशन संयंत्र लगाया गया है.

जल संरक्षण उपाय, जल प्रदूषण रोकने और घटाने के उपाय

  • आधुनिक व्यर्थ जल उपचार संयंत्र, सीक्वेंशियल बैच रीएक्टर (एसबीआर), मेंब्रेन बायोरीएक्टर(एमबीआर),अल्ट्रााफिल्टयरेशन(यूएफ) और रिवर्स ऑस्मोसिस(आरओ) युक्त व्यर्थ जल उपचार संयंत्र, रिफाइनरी में चालू किया गया है. इस संयंत्र की बदौलत, उपचारित बहिस्राव की गुणवत्ताऑ में सुधार होगा जिससे अधिक मात्रा में उपचारित बहिस्राव का दोबारा उपयोग किया जा सकेगा.
  • रिफाइनरी कांप्लेमक्‍स में 70% से अधिक उपचारित बहिस्राव का दोबारा उपयोग किया जाता है.
  • चरण-III को, मंगलूर शहर से उत्स%र्जीत तृतीय स्तार पर उपचारित घरेलू मल-जल का 6.5 MGD उपयोग करने के लिए बनाया गया है.
  • व्यापक अनुसंधान करने के बाद एमआरपीएल ने हाइड्रोजन पेरॉक्साआईड की मदद से सल्फ़ाैईड और फीनॉल का उपचार करने के लिए रिफाइनरी में व्यर्थ जल उपचार तकनीक स्था पित किया है जो एक पथ प्रदर्शक की भांति साबित हुआ. उत्कृष्ट दर्जे का उपचारितव्यर्थ जल को प्राप्ता करने और अधिक मात्रा में उपचारित बहिस्राव का इस्ते माल करने के लिए इस तकनीक को बाद में कई रिफाइनरियों ने आजमाया.
  • तमाम उत्पाशदों और स्तंभ के ओवरहेड्स के लिए फिन फैन कूलर्स के साथ-साथ ट्रिम कूलर्स का अधिकतम उपयोग करना जिससे कि जल शीतलन की प्रक्रिया घटाई जा सके.
  • क्रूड टैंक और स्लॉ प तेल टैंक में अगर प्रोब उपलब्ध कराया गया है जिससे डब्लूडब्ल्यूटीपी तक तेल प्रविष्ट होने की मात्रा कम होगी.
  • क्लोस्ड लूप सैंपलिंग सिस्टेम मुहैया करवाया गया है जिससे डब्लूडब्ल्यूटीपी तक तेल प्रविष्ट होने की मात्रा कम होगी.

ध्वनि प्रदूषण रोकने और घटाने के उपाय

  • ध्वनि उत्प न्ना करने वालेविभिन्न उपकरणों में अकाउस्टिक हुड्, साइलेंसर और मफ्लर लगाए गए हैं जिससे ध्वनि स्तनर काफ़ी हद तक घट गया है.
  • रिफाइनरी कांप्लेकक्‍स के अंदर ध्वनिकेस्त र हेतु वक्त-वक्त पर निगरानी रखी जाती है और अधिक ध्वनि उत्पन्न करने वाले क्षेत्रों में काम करने वाले कर्मचारियों के मामले में नियमित रूप से ऑडियोमेट्री स्क्रीनिंग परीक्षण किया जाता है.

रिफाइनरी में ठोस और ख़तरनाक अपद्रव्य का प्रबंधन

  • एमआरपीएल ने, रिफाइनरी के व्यर्थ जल का उपचार करने के लिए हाइड्रोजन पेरॉक्सारईड ऑक्सीनडेशन प्रौद्योगिकी को अपनाने वाली सर्व प्रथम रिफाइनरी का खिताब पाया.
  • कच्चे तेल की टंकियों से कीचड़ को हाथ से निकालने की पद्धति से बिल्कुल हटकर इस समय यंत्रीकृत तरीका अपनाया जा रहा है जिससे कीचड़ में तेल की मात्रा 10% से कम हो गई है.
  • डीलेड कोकर यूनिट(डीसीयू) के डिज़ाइन की बदौलत तेलयुक्तह कीचड़ का प्रोसेसिंग करना संभव हुआ है.
  • रिफाइनरी से निकले तेलयुक्ती कीचड़ का उपचार करने के लिए क्लोिस्डे बायो रेमेडिएशन यूनिट चालू की गई है.

रिफाइनरी के इर्द-गिर्द हरित पट्टी का विकास

  • रिफाइनरी में उपलब्ध प्राकृतिक हरियाली के अलावा, एक व्यापक हरित पट्टी विकास कार्यक्रम बनाकर रिफाइनरी में लागू किया गया है.
  • हमने 50 से अधिक प्रकार के पौधे, जो स्थावनीय आबो हवा के अनुकूल हों, हरित पट्टी में लगाए हैं.
  • 120 एकड़ जमीन पर हरित पट्टी का विकास करने के लिए राज्य वन विभाग को ऑर्डर दिया गया है.

पुरस्कार और प्रमाणपत्र

  • ग्रीनटेक फाउंडेशन, नई दिल्ली ने रिफाइनरी को वर्ष 2003-04 और 2004-05 के लिए पर्यावरण की देखभाल में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए पुरस्कार दिया.
  • विश्व पर्यावरण प्रतिष्ठान, नई दिल्लीय ने रिफाइनरी को वर्ष 2004-05 के लिए गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्‍कार से सम्मानित किया.
  • ग्रीनटेक फाउंडेशन, नई दिल्ली ने रिफाइनरी को वर्ष 2007-08 के लिए पर्यावरण की देखभाल में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए पुरस्कार दिया.

जैविक संयंत्र:

जल उपचार संयंत्र

एमआरपीएल टाउनशिप और रिफाइनरी के जैविक खाद्य अपद्रव्य का उपचार करने की दृष्टि से कूड़ा-कचरे का उपचार करनेवाला अनॉरॉबिक बायो गैस संयंत्र लगाया गया है. इस व्यीवस्था से, टाउनशिप और रिफाइनरी के समग्र खाद्य अपद्रव्यक का जैवी-उपचार पर्यावरण के अनुकूल संयंत्र में किया जाता है जिससे पेड़-पौधों / हरियाली के लिए उपयोगी बायो गैस और उत्कृष्ट दर्जे का जैवी काँपोस्ट उत्प-न्न होता है.

भूदृश्य निर्माण:

यह अकसर कहा गया है कि भगवान को खोजने का बेहतरीन स्थाजन है बग़ीचा. लेकिन सवाल यह उठता है कि बग़ीचे को खूबसूरत बनाए कैसे. बग़ीचे को जीवंत बनाए रखने के लिए, हमें बागबानी के लिए ज़रूरी बुनियादी चीजों के बारे में जानकारी होनी चाहिए क्योंकि बागबानी एक कला और विज्ञान है.

एमआरपीएल ने अपने इर्द-गिर्द ऐसे रमणीय दृश्यू बनाए हैं जो प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर हैं जैसे बहती धाराएं, आसमान छूते नजर आने वाले हरे-भरे पेड़, हरी घास का मुलायमदार कार्पेट तथा रंगबिरंगे और विभिन्नि आकार के फूलों की वाटिका; रिफाइनरी का पास-पडोस ऐसी खूबसूरत वादियों से भरा है. ऐसे में प्रकृति की तरफ हर कोई अनायास खींचा चला जाता है. क्योंकि इससे थके-माँदे नसों को सुकून मिलता है और मानवीय जीवन की सर्वाधिक ज़रूरत, मन को शांति मिलती है. बगीचा, एक कलाकृति होती है जिससे आंखों की तृष्णा पूरी होती है - यह तो बाकायदा कवि की कल्पना का साकार रूप है.

एमआरपीएल ने कार्यालय परिसर एवं कॉलोनी में बग़ीचे बनाए हैं जिससे हर एक के घर के आस-पास प्रकृति एवं प्राकृतिक सौंदर्य लाना संभव हो पाया है, इससे हर कोई अपने इर्द-गिर्द प्रकृति का एहसास कर पाएगा, सभ्य समाज में घुटन सी भरी जिंदगी को प्रफुल्लित बना पाएगा, प्राकृतिक सौंदर्य और हरी भरी वादियों के बीच जिंदगी में सुकुन लाने का प्रयास कर पाएगा.

कॉलोनी और कार्यालय परिसर में 25 एकड़ से अधिक जमीन में बगीचा बनाया गया है जिसमें हरियाली से चहचहाते मलमल मैदान हैं, विभिन्न प्रकार के बाड़ हैं, अलग-अलग क़िस्म के फूल हैं और फूल न देने वाले झाड़, जमीनी आच्छादन हैं, चट्टानों के बीच बहती जल धाराएं हैं. एमआरपीएल के खूबसूरत बग़ीचे के लिए सरकारी बागबानी विभाग और सिरी हॉर्टिकल्चरल सोसाइटी, मंगलूर ने बड़े पैमाने पर हुए पुष्प प्रदर्शन-2001 की बगीचा प्रतिस्पर्धा में प्रथम पुरस्कार दिया.

एमआरपीएल की पर्यावरण संबंधी नीति देखें

पर्यावरण से संबंधित आंकड़ें